(Nana-ke-Bol) Keep Good Company – Always!

 

हकीम लुकमान था बड़ा दयालू 

सबका था हितकारी

अच्छी शिक्षा के संग-संग 

करता था दूर बिमारी |

उसका बेटा था अकलमंद 

सुशील और आज्ञाकारी 

एक दिन लुकमान ने उसे बुलाया 

और शिक्षा दी हितकारी |

एक हाथ में चन्दन की लकड़ी पकड़ाई 

और दूसरे हाथ में कोयला 

फिर उनको फेंकवा कर बेटे से 

हकीम लुकमान यूं बोला |

कोयले वाली हाथ की संगति से 

हाथ हुआ है काला 

चन्दन वाले हाथ को सूंघो 

हुआ सुगन्धिवाला |

यह दिखलाकर लुकमान ने बेटे को 

संगति का पाठ पढ़ाया 

दुर्जन और सज्जन के संग रहने का 

भेद बताया |

दुनिया में खुश रहना है तो 

सत्संग को अपनाओ 

जगहित के कार्य करो 

और जीवन सफल बनाओ |

(Nana-ke-Bol) Just being capable is not enough!

 

Hello

Enjoy this story.

Parth

एक राजा था बहुत स्याना 

पर एक आंख से वह था ‘काना’

एक बार सब के कहने पर 

उसने तीन चित्रकार बुलवाए 

और राजभवन में लगवाने को 

अपने चित्र बनवाए |

तीनों चित्रकारों ने, बड़ी मेहनत से 

अपनी कुशलता दिखलाई 

तब राजा को उन चित्रों में से 

श्रेष्ठ चित्र चुनने की बारी आई 

प्रथम चित्र में राजा को दोनों आंखों का 

स्वस्थ रूप ही था दर्शाया 

जबकि दुसरे चित्र में ‘काने पण’ की 

वास्तविकता को भी था दर्शाया |

तीसरे चित्र में रजा को एक आंख बंद कर 

तीर चलाते था दिखलाया 

जिसने राजा की आंख की कमी को 

कुशलता पूर्वक था छुपाया |

निशचय ही राजा को,

तीसरा चित्र ही था भाया 

और चित्रकार ने अपना 

समुचित पुरस्कार पाया |

कुशलता से सफलता पाने को 

सब का मन ललचाए 

पर कुशलता और चतुरता का संगम ही 

असली फल दे पाए |

STORIES: The Donkey?

 

A story from the Akbar & Birbal Tales…

One day Akbar went to the river to take a bath with his two sons and Birbal.

Akbar and his sons left their clothes with Birbal and stepped into the river. Birbal waited for them on the river bank with their clothes on his shoulder. Looking at Birbal, Akbar teased him and said, “Birbal, you look like a washerman’s donkey with a load of clothes!”

Birbal quickly retorted, “Your Majesty! I am carrying the load of not just one donkey, but actually three.”

Akbar was left speechless.

The exchange between Akbar The Great (Mogul emperor) and Birbal (his minister) have become folk stories in Indian tradition and illustrate day-to-day questions through for wisdom, wit and subtle humour.

 

 

STORIES: Fastest Thing

 

Another Akbar-Birbal Story today…

One day Akbar asked his courtiers, “What is the fastest thing in the world?”

The first courtier said, “Bullock Cart”. Another courtier replied, “Wind” and the third courtier said, “Light”.

Akbar turned to Birbal for his answer. Birbal responded, “Your Majesty! Thoughts are faster than anything else. One moment you are in this court and your next thought can take you anywhere in the world.”

Everyone was surprised. Akbar was proud of Birbal’s wisdom and rewarded him suitably.

 

The exchange between Akbar The Great (Mogul emperor) and Birbal (his minister) have become folk stories in Indian tradition and illustrate day-to-day questions through for wisdom, wit and subtle humour.

(Nana-ke-Bol): Unity is Strength – A story of bundle of sticks!

 

Hello

Have you heard this story of bundle of sticks- it tells us to be together. Always!

Parth

एकता में बल है 

एक किसान के पांच बेटे 

सुन्दर और बलवान 

माता पिता के आज्ञाकारी 

सदा करें सम्मान |

एक दिन किसान ने बेटों को 

अपने पास बुलाया 

और संसार में रहने का 

सही ढंग समझाया |

पांच लकड़ियां निकाल 

बेटों को एक-एक पकड़ाई 

तोड़ने को जब कहा उन्हें तो 

झट से तोड़ दिखलाईं |

रस्सी से फिर बांधा लकड़ियों को 

तो उनमें मज़बूती आई 

ज़ोर लगा कर हार गए वे 

पर लकड़ियां टूट न पाई |

बन्धी लकड़ियों को जब वे लड़के 

बल से तोड़ न पाए 

तो किसान अपने बेटों को 

प्यार से यूं समझाए |

इकठा मिल कर काम करने से 

ऐसी ताकत आए 

जैसे हाथ की पांच उंगलिओं के मिलने से 

एक मुट्ठी बन जाए |

ऐसे ही तुम मिलकर रहना 

जग में यही उपाय 

एकता के बल पर ही जग में 

सब संभव हो जाए  |

(Nana-ke-Bol) The one who saves owns the right, not the one who kills: A Buddha Story

 

On Buddha Purnima today, i will tell you a story from the life of Buddha. We did a play on this story on our annual day. Buddha Purnima is also called Buddha Jayanti!

Parth

वैशाख पूर्णिमा को हम 

एक ऐसा पर्व मनाते 

जिस को भगवान बुद्ध का 

जन्म, निर्वाण और मृत्य दिवस बतलाते |

भगवान बुद्ध के बचपन का 

नाम था सिद्धार्थ

कोमल, करुणा भाव से पूरित 

देते सबका साथ |

एक दिन सिद्धार्थ अपने महल के पीछे की 

बगिया में आए 

उनके साथ चचेरा भाई देव दत्त भी 

अपना मन बहलाए |

तभी आकाश में हंसों के उड़ते झुंड 

दोनो के मन भाए 

देवदत्त ने लालायित होकर 

हंसो पर बाण चलाए |

तीर लगने से एक हंस घायल होकर 

लुड़कता नीचे आया 

बाण को पीड़ा से मूर्छित सा 

सहमा और घबराया |

करुणा भाव से पूरित सिद्धार्थ ने 

दौड़ कर उसे उठाया 

तीर निकाल, चिकित्सा कर के 

प्यार से उसे सहलाया |

तभी देवदत्त भी दौड़ा-दौड़ा 

हंस के पास आया 

अपना शिकार बताकर उसने 

हंस पर हक़ जताया |

सिद्धार्थ ने सहमे हंस को देखा 

तो उसका मन भर आया 

हंस देने से इनकार किया तो 

देवदत्त को गुस्सा आया |

मामला न्यायधीश तक पहुंचा तो 

उसने सिद्धार्थ को हक दिलवाया 

‘मारने वाले से बचाने वाले का हक’

अधिक बताकर अपना न्याय सुनाया 

करुणा पूर्ण सिद्धार्थ से ही भविष्य में 

‘निर्वाण-पद’ को पाया 

‘भगवान-बुद्ध’ कहला कर जग को 

सत्य और अहिंसा का पाठ पढ़ाया |

STORIES: The Mango Tree – A Reliable Witness!

 

An old man was going on a pilgrimage. He took a bag containing thousand gold coins and asked his friend to keep it safe with him while he was away.

When the old man returned, he went to his friend and said, “I am back, my friend. Please give me my bag.”

The friend said in surprise, “What bag are you talking about? You never left anything with me.”

The old man was shocked and said, “The bag contained all my savings. Please do not joke with me. Please return my bag.”

The friend refused again. The old man was shattered. He went to Akbar’s court and asked Birbal to help.

Birbal said, “Where exactly did you give the bag to your friend?”

The old man replied, “Huzoor, I gave the bag to my friend under a mango tree in a mango grove.”

“It is a lie. I did not receive anything,” responded the old man’s friend.

Birbal continued, “Well, lets bring the mango tree here as a witness. He will help us to get to the truth.” He turned to the old man and said, “Go immediately and order the tree to come here.”

Everyone was puzzled. The old man was scared. He thought that Birbal will get angry if he questioned him. So he silently left for the grove.

After an hour Akbar said, “We have been waiting for an hour. The old man has not returned. How long do we have to wait.”

Birbal replied, “Be patient. He will be back soon.”

The old man’s friend said, “How can the old man be back soon? He cannot even have reached the mango grove.”

Birbal asked, “Is the mango grove far?”

“Yes, Huzoor. It is more than five miles away,” replied the old man’s friend.

“Well, we can do nothing but wait for him to come back,” said Birbal.

Few hours later the old man returned and said to Birbal, “Huzoor, I repeated your order to the mango tree three times. But it did not move.”

“Don’t worry. The mango tree has already borne witness,” said Birbal and turned to the old man’s friend, “You are a liar. How else do you know where the mango grove is and how far it is? The old man did give you the bag.”

The old man’s friend was caught and could not deny it anymore. The old man was relieved and got his bag back.

Everyone was amazed at Birbal’s approach and how he had cleverly reached the truth in the matter. Akbar praised Birbal for delivering justice.

The exchange between Akbar The Great (Mogul emperor) and Birbal (his minister) have become folk stories in Indian tradition and illustrate day-to-day questions through for wisdom, wit and subtle humour. 

(Nana-ke-Bol) Remember the good deeds of others – always!

 

Hello!

Exams over!! Having great fun.

Here is a new story. It tells us to only remember the good things of others.

Vani

अच्छी  बात अमिट बना दो

दो मित्र गए गोवा की सैर

छोड़ के सारे द्वेष और वैर

समुद्र की लहरों से, मन बहलाएं 

नाचें  गाएं मज़े उडाएं |

विदुर और कबीर थे उनके नाम

खेल – खेल में हो गई शाम

डूबते सूर्य के आंचल में

विदुर ने कबीर की हंसी उड़ाई |

विचलित कबीर ने गुस्से में

विदुर को एक चपत लगाई

दुखित मन से विदुर ने उसकी

रेत पर लिखी बहुत बुराई |

तभी समुद्र की उठती लहरें 

उस जगह पर बहती आईं 

लिखाई मिटा समुद्र की लहरों ने

उनके मन की ‘टीस’ मिटाई |

दोनो मित्र गले मिले और

उनकी दोस्ती फिर गहराई |

फिर एक दिन ऐसा भी आया

जब समुद्र किनारे संकट छाया

समुद्र की ऊंची लहरों ने

विदुर को समुद्र बीच फंसाया|

तैरने से अन्भिज्ञ विदुर तब

बहुत ज़ोर से चिल्लाया

विदुर को डूबता देख कबीर तब

भागा – भागा वहां पर आया 

समुद्र में छलांग लगाई

और तैर  कर विदुर को बाहर लाया|

कबीर की बहादुरी को पत्थर पर लिखकर

समुद्र किनारे से विदुर हटा

यह सोच कि  समुद्र की लहरें

उसको, कभी भी न सकें मिटा |

बुरी भावना जब मन में जागे

जल्दी से मिट जाने दो

अच्छी बात अमिट बना कर

सबमें उजागर कर दो |

STORIES: The Mango Tree

 

Hello

Today i will tell you an Akbar & Birbal story. Its about a mango tree. It tells us that Truth always finds its way and cannot be hidden.

Parth

One day two farmers Ramu and Shamu approached Birbal.

Ramu said, “There is a mango tree on the edge of my farm. It has always belonged to me. Now Shamu claims that the tree is his.”

“Huzur, the tree belongs to me. I have watered it from the time it was a sapling,” said Shamu.

Birbal asked them to go home and come back the next day. He then called a trusted servant and said, “Go to their houses in the evening and tell them that some mangoes are being stolen by thieves. Report their reaction to me.”

When Ramu heard the news of the thieves he said, “I have some urgent work now. I will look into the matter later.” On the other hand, as soon as Shamu heard the news he ran out towards the tree with a stick in his hand.

Next day Birbal said to them, “The tree obviously cannot belong to both of you. But since I find it difficult to settle this dispute, I order that the mangoes be plucked and divided equally between the two of you. ”

“And for the tree, it will be cut down and the wood too will be equally divided,” Birbal added.

Ramu felt happy and said, “You are just and fair.”

Shamu had teers in his eyes and said, “Huzur, I have tended the tree for seven years. I cannot see it being cut down. Please let the tree go to Ramu.”

“Shamu, your concern for the tree has told me all that I wanted to know,” said Birbal and added, ” I declare you to be the rightful owner of the tree. Let Ramu be whipped for telling a lie.”

The exchange between Akbar The Great (Mogul emperor) and Birbal (his minister) have become folk stories in Indian tradition and illustrate day-to-day questions through for wisdom, wit and subtle humour. 

(Nana-ke-Bol) Friendship – Two Stories from Mahabharata!

 

2 stories from Mahabharata tell the story of two very different friendships!

दोस्ती के दो रूप

महाभारत काल की शिक्षा पद्यति में

गुरु आश्रम थे बहुत महान

ऊँच-नीच का भेद नहीं था

शिष्य थे पढ़ते एक समान

प्रेम भाव से रहना सीखें

गुरु का करें मान-सम्मान

पूर्ण रूप से शिक्षित होकर

समाज का करें पूर्ण कल्याण ।

ऐसे काल के दो गुरु-आश्रमों में

कृष्ण-सुदामा और द्रोण-द्रुपद थे सहपाठी

गुरु-छाया में ब्राह्मण और राजा के बेटों की

दोस्ती खूब गहराती

शिक्षा पूर्ण करने के पश्चात

जब उन्हों ने गुरुकुलों से ली विदाई

तो दोनो ‘मित्र मुगलों’ ने, कठिन समय में

मदद करने की प्रतिज्ञा दोहराई ।

कालान्तर में एक समय

ऐसा भी आया

जब ‘राजा बन’ द्रुपद के मन में

अहंकार समाया

परन्तु श्री कृष्ण ने सदा

निष्काम कर्म को ही अपनाया

और सब के कष्टों को दूर कर

मित्रता का साथ निभाया ।

समय के साथ-साथ जब

द्रोणाचार्य और सुदामा पर आर्थिक कष्ट आया

तो दोनों ने अपने-अपने मित्रों से

मिलने का साहस जुटाया ।

दीन भाव से द्रोणाचार्य ने जब द्रुपद से

अपने कष्टों की बात बताई

तो ‘राजा-द्रुपद’ ने ‘अहंकारवश’

दोस्ती की बात भुलाई

‘गरीब- ब्राह्मण’ और ‘राजा’ की दोस्ती को

असम्भव बतला कर, उनकी हंसी उड़ाई

दोस्ती की यह कड़वाहट भी

महाभारत युद्ध का कारण बन कर आई |

प्रेमभाव से सकुचाते-सकुचाते

जब मित्र सुदामा ‘कृष्ण-द्वार’ पर आए

तो उनके स्वागत हेतु श्री कृष्ण

द्वार पर दौड़े-दौड़े आए

प्रेमभाव से पांव पखारे

नैन्न में जल भर लाए

रानियों के संग आदर सत्कार किया और

प्यार से उपहार के चावल खाए

बिन मांगे ही आर्थिक दशा संवारी उनकी

और राजसी ठाट दिलवाए ।

शिक्षा के अतिरिक्त राजसी और सात्विक

गुण भी अपना असर दिखाएं

महाभारत की ये कथाएं, इसी अंतर को

दो रूपों में समझाएं

इन कथाओं को पढ़कर सीखो

‘अहंकार’ न मन में लाना

ऊँच-नीच का भेद मिटा कर

मित्रता सदा निभाना ।